EXCLUSIVE : इस गांव में प्रधान चुनने का संकट, एक भी योग्य उम्मीदवार नहीं

  • प्रदीप रावत (रवांल्टा)
उत्तरकाशी: सरकार पंचायत चुनाव के अधिसूचना जारी करने की तैयारी पूरी कर चुकी है। सरकार ने अपनी तैयारियों से चुनाव आयोग को सूचित कर दिया है। माना जा रहा है कि 15 सितंबर से प्रदेश में चुनाव आचार सहिंता लागू हो जाएगी। सरकार ने भले ही चुनाव आयोग को सूचित कर दिया हो, लेकिन जिस तरह की खबरें सामने आ रही हैं। उससे लगता है कि प्रदेश कुछ सीटें खाली रह जाएंगी। अगर सरकार ने उन पर ध्यान नहीं दिया। 


दरअसल, उत्तरकाशी में भटवाड़ी के मल्ला गांव में एक भी परिवार आरक्षित वर्ग का नहीं है। फिर भी ग्राम प्रधान और क्षेत्र पंचायत की सीटें आरक्षित कर दी गई। आपत्तियों पर भी कोई विचार नहीं किया गया। ऐसा ही एक और मामला सामने आया है। इस गांव में अनुसूचित जाती का परिवार तो है, लेकिन परिवार में मात्र तीन सदस्य हैं। उनमें से भी एक महिला की उम्र करीबी 78 साल है। बेटा सरकार नौकरी में है। गांव में आरक्षण के अनुसार जो एक मात्र योग्य उम्मीदवार है। वो लोक निर्माण विभाग में संविदा पर कार्यरत हैं। इस हिसाब से वो भी चुनाव नहीं लड़ पाएगा।

डुंडा ब्लाक के वाण गांव में करीब 76 परिवार हैं। उनमें से एक ही परिवार अनुसूचित जाति का है। महिला का एक बेटा है, वो लोक निर्माण विभाग में मेट है। सरकार नौकरी है। जानकारी के अनुसार तीन बेटे हैं, लेकिन तीनों अभी छोटे हैं। पंचायत चुनाव में आरक्षण प्रक्रिया और वोटों के अनुपात के हिसाब से भी इस सीट को अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित नहीं किया जा सकता है। ग्रामीणों ने इस पर आपत्ति भी लगाई थी। बावजूद इसके ग्रामीणों की आपत्ति पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।
EXCLUSIVE : इस गांव में प्रधान चुनने का संकट, एक भी योग्य उम्मीदवार नहीं EXCLUSIVE : इस गांव में प्रधान चुनने का संकट, एक भी योग्य उम्मीदवार नहीं Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Thursday, September 05, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.