45 सालों बाद देवरा यात्रा पर मां अनुसूया देवी, ध्याणियों को देंगी खुशहाली का आशीष

  • राजपाल बिष्ट

गोपेश्वर: पुत्रदायिनी के रूप में विख्यात सती माता अनुसूया देवी की उत्सव डोली 45 वर्षों के लंबे अंतराल के बाद विजयादशमी से देवरा यात्रा पर निकलेगी। इसके लिए मंडल घाटी में जोरदार तैयारियां शुरू हो गई हैं। पुत्रदायिनी अनुसूया देवी 1973-74 के लंबे अंतराल के बाद इस साल देवरा यात्रा पर निकल रही है। अनुसूया मंदिर ट्रस्ट की बैठक में निर्णय लिया गया कि अनुसूया देवी की मंडल घाटी के खल्ला गांव में स्थित उत्सव डोली विजयादशमी के पर्व से 9 माह के लिए देवरायात्रा पर निकलेगी। अनुसूया देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष भजन सिंह झिंक्वाण की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में देव डोली की देवरा यात्रा का मुहूर्त निकाला गया। 


8 अक्टूवर को विजयादशमी पर्व पर देव डोली गर्भगृह से बाहर निकलने के बाद अनुसूया आश्रम पहुंचेगी। अनुसूया आश्रम में पूजा अर्चना के बाद देव डोली वहां से विभिन्न क्षेत्रों खासकर ध्याणियों को मिलने उनके ससुराली गांवों की यात्रा पर निकलेगी। इस दौरान देव डोली केदारनाथ, बदरीनाथ की यात्रा पर भी जाएगी। देवरा यात्रा के बाद मंडल में महाकुंभ का भी आयोजन होगा। 

इस देवरा यात्रा में खल्ला, मंडल, सिरोली, कोटेश्वर, बणद्वारा, बैरागना, भदाकोटी, कुनकुली, मंडोली तथा अनुसूया गांव के लोगों की सामूहिक भागीदारी रहेगी। इससे पूर्व 29 सितंबर से 8 अक्टूवर सिंह खल्ला गांव में मां अनुसूया देवी का पाठ आयोजित किया जाएगा। इसमें मंडल घाटी के 9 गांवों के लोग भाग लेंगे। रविवार को खल्ला गांव में अनुसूया देवी मंदिर में देवरा यात्रा के लिए बनाई गई समिति के पदाधिकारियों ने देवरा यात्रा के बेहतर संचालन का संकल्प लिया। 


इस दौरान ट्रस्ट के अध्यक्ष भजन सिंह झिंक्वाण के हाथों महाप्रबंधक भगत सिंह बिष्ट, सहायक महाप्रबंधक राजेंद्र सिंह नेगी व दुर्गा प्रसाद सेमवाल, प्रबंधक महाबीर सिंह बिष्ट व हरेंद्र बिष्ट, सचिव देवेंद्र बत्र्वाल, सहसचिव रविंद्र सिंह नेगी, कोषाध्यक्ष कुंवर सिंह नेगी, सहायक कोषाध्यक्ष धीर सिंह बिष्ट, दर्शन सिंह झिंक्वाण, शिव सिंह रावत, महेंद्र सिंह राणा, सर्वेंद्र सिंह बिष्ट, योगेंद्र सिंह बिष्ट, गंगा सिंह बत्र्वाल व संतोष राणा को बेहतर दायित्व का संकल्प लिया। इस अवसर पर ट्रस्ट के उपाध्यक्ष विनोद सिंह राणा, सचिव दिलवर सिंह बिष्ट, कोषाध्यक्ष बीरेंद्र सिंह राणा, अवतार सिंह रावत, दिगंबर सिंह बिष्ट, योगेंद्र सिंह, मनवीर सिंह, अरविंद सेमवाल, सुनील सिंह बिष्ट, पुजारी दिव्यांशु सेमवाल, पुरोहित चंद्र शेखर तिवारी मौजूद रहे। 

देवरा यात्रा के संचालन के निमित धार्मिक मंडली का गठन किया गया। धार्मिक मंडली में अयोध्या प्रसाद त्रिपाठी को संरक्षक, चंद्रशेखर तिवारी को अध्यक्ष, जगदीश प्रसाद सेमवाल को उपाध्यक्ष, प्रदीप सेमवाल को सचिव तथा भगवती प्रसाद त्रिपाठी को सदस्य बनाया गया। यह समिति धार्मिक कार्यों में योगदान देगी। बैठक में देवरा यात्रा के बेहतर संचालन का निर्ण लिया गया। इस यात्रा में मंडल घाटी के सभी 9 गांवों के लोग भागीदार बनेंगे। इस तरह करीब 45 वर्षों बाद मां अनुसूया देवी की देवरा यात्रा को लेकर हर तरफ उमंग व उल्लास बना हुआ है। इस अवसर पर मंडल घाटी के सभी 9 गांवों के लोग मौजूद रहे। इस दौरान मां अनुसूया देवी की पूजा अर्चना कर देवरा यात्रा के बेहतर संचालन की मनौती मांगी गई। 


45 सालों बाद देवरा यात्रा पर मां अनुसूया देवी, ध्याणियों को देंगी खुशहाली का आशीष 45 सालों बाद देवरा यात्रा पर मां अनुसूया देवी, ध्याणियों को देंगी खुशहाली का आशीष Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Monday, September 02, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.