पटलू राम उपशिक्षा अधिकारी, नामी स्कूलों से डरे, अपने ही आदेश से पलटे

कोटद्वार: उत्तराखंड में शिक्षा विभाग के अधिकारी अपने कारनामों से अक्सर चर्चाओं में रहते हैं। टिहरी में स्कूल बस की वैन के खाई में गिरने के बाद से प्रदेशभर में शिक्षा विभाग स्कूलों की मान्यता को लेकर अभियान चला रहा है। इसको लेकर कोटद्वार में उप शिक्षा अधिकारी अभिषेक शुक्ला ने भी 18 स्कूलों की एक लिस्ट जारी कर दी। जिसमें कहा गया था कि ये स्कूल मान्यता प्राप्त नहीं हैं। लेकिन, जैसे ही उनकी लिस्ट सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी। उसके कुछ देर बाद ही उप शिक्षा अधिकारी अपने आदेश से पलट गए और नया लेटर जारी कर दिया। 


उप शिक्षा अधिकारी कोटद्वार में संचालित हो रहे 18 विद्यालयों को बगैर मान्यता प्राप्त संचालित होना बताया गया। उन्होंने स्कूलों को तत्काल बंद करने के निर्देश जारी कर दिये। उप शिक्षा अधिकारी के आदेश के वायरल होते ही स्कूल संचालकों में हड़कंप मच गया। खबर सामने आते ही उपशिक्षा अधिकारी अभिषेक शुक्ला बैक फुट पर आ गए। कहा जा रहा है कि उन पर अपना आदेश वापस लेने का दबाव बनाया गया। लिस्ट में कई नामी स्कूलों का नाम भी था।  

उपशिक्षा अधिकारी अभिषेक शुक्ला ने संशोधित पत्र जारी करते कहा कि इन विद्यालयों के दस्तावेज खंड शिक्षा कार्यालय दुगड्डा में उपलब्ध नहीं है। इसलिए विद्यालयों को सूचित करने के लिए पत्र जारी किया गया था। लेकिन, जिस पत्र को वो सूचना बता रहे हैं। उसकी भाषा से साफ है कि वो जानकारी देने नहीं। बल्कि आदेश था। जिसे उन्होंने बाद में खुद ही बदल दिया। 

सवाल ये है कि विद्यालय अगर मानता प्राप्त ना माने जाएं। जैसा उप शिक्षा अधिकारी ने कहा भी है कि इन स्कूलों के दस्तावेज खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में नहीं है। इससे साफ है कि स्कूलों को खंड शिक्षा कार्यालय से कोई फर्क ही नहीं पड़ता। स्कूलों का कहना है कि उनकी स्थाई मान्यता है और दस्तावेज जिला स्तर पर जता करा गए हैं।
पटलू राम उपशिक्षा अधिकारी, नामी स्कूलों से डरे, अपने ही आदेश से पलटे पटलू राम उपशिक्षा अधिकारी, नामी स्कूलों से डरे, अपने ही आदेश से पलटे Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Sunday, August 11, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.