बाबा की माया: पेड़ा भी गोल, बाबा भी गोल, आचार्य जी भी गोल

बाबा की माया भी बाबा ही जानें...। पेड़ा ज्यादातर गोल ही होता है। जिस दिन से आचार्य सुरक्षित लौटकर आए...। बाबा भी कहीं गुम हो गए। पता नहीं कहां पेड़े की तरह गोल हो गए। बाबा ने कहा था। पुलिस अपना काम करेगी। बेचारी हमारी पुलिस भी वही कर रही है...। कसम खा रखी है। जब तक तहरीर नहीं मिलेगी...लकीर के फकीर ही बने रहेंगे। खुद तो पार्टी बनना ही नहीं। बनेगी भी कैसे बाबा की माया जो है। खैर...। 

आॅफिस में पेड़े की बात चल रही थी तो मुझे भी आचार्य बालकृष्ण को पेड़ा खिलाने वाले की याद आ गई। बाबा ने कहा था...पुलिस अपना काम करेगी। जांच होगी...। पर अब पता नहीं ही चल पा रहा कि जांच के लिए हरिद्वार में महायज्ञ कराना पड़ेगा या फिर कोई मुहूर्त निकालना पड़ेगा...धर्म नगरी जो ठहरी। अब तो गोल हो चुके पेड़े वाले को खोजने की बातें भी होने लगी हैं। पर बाबा की माया है कि सब गोल है...। एक और बाबा हैं...। उन्होंने सीबीआई जांच की मांग रखी है। उनको मानना है कि ऐसे तो मामला लंबा खिंचेगा...। सीबीआई ही मामले को गोल कर सकती है। 


वैसे लगता है कि बाबा पर भी खैरासैंण से निकले सूरज का असर हो गया है। उन्होंने एलान किया था कि कोई जांच-ऊंच की जरूरत नहीं है...। शायद इसलिए भी बाबा कहीं गोल हो गए। वैसे तो गोल पड़े खिलाने वाले को गोल नहीं होने देना चाहिए। अगर सही में पेड़ा गोल करके ही खिलाया गया था...। और उससे आचार्य जी को सबकुछ गोल-गोल नजर आ रहा था...। बात कुछ और है, उसे गोल नहीं होने देना चाहिए...। 

अगर मजाक हुई तो बाबा को ही लंबा करदो...इससे पहले की बाबा कुछ गोल-मोल ना कर दें। लोग सवाल तो पूछेंगे ही ना...? बाबा के पतंजिल की कहानी भी कुछ सवालों वाली ही है...। ये बात अलग है कि सारे सवालों के आज तक नहीं मिले...। सबके जवाब आज भी गोल ही हैं...। ऐसे ही थोड़े हम गोल-गोल कर रहे हैं। हमें गोल-गोल रानी, कितना-कितना पानी खेलने का शौक तोड़े ही है...। अगर सच में कुछ गड़बड़ है, तो इससे पहले की ये मामला भी पहले वालों की तरह गोल हो जाए...। बात लंबी कर देनी चाहिए...। बाद में सीधे सवालों के जवाब भी गोल-मोल ही मिलेंगे...।
...प्रदीप रावत (रवांल्टा)

बाबा की माया: पेड़ा भी गोल, बाबा भी गोल, आचार्य जी भी गोल बाबा की माया: पेड़ा भी गोल, बाबा भी गोल, आचार्य जी भी गोल Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Tuesday, August 27, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.