लोकु नि बोली तु बल कि यू ठीक मनखी, पर यु त...?

लोगों ने कहा था ठीक आमदी है, पर ये तो...?
  ब्वाडा चिट्ठी भी कल ही आई और बोडी ने भी कल ही फोन किया था। दोनों बहुत क्रोधित हैं। अभी ब्वाडा की चिट्ठी में लिखी गहरी बातें पढ़कर समझने का गंभीर प्रसास कर ही रहा था कि बोडी का भी फोन घनघना गया। उनके लिए मैंने अलग ही टोन लगा रखी है। किसी का फोन उठे ना उठे बोडी को तो उठाना ही उठाना है। ब्वाडा की चिट्ठी जैसा गुस्सा बोडी के फोन से सीधे मेरे कान के पर्दों पर पड़ रहा था। किसी तरह उनको शांत किया...फिर अपनी बात कही। पर उन्होंने सुनी ही नहीं। अपनी ही सुना दी। उनकी बातें बड़ी खतरनाक होती हैं...। बातें कम घात-जैंकार ज्यादा। 

ब्वाडा जी के लिए इमेज परिणाम108 वालों की हड़ताल के बारे में ब्वाडा और बोडी को सबकुछ पता है। ब्वाडा ने चिट्ठी से लानत भेजी है और बोडी ने फोन से मेरे कानों के जरिए निंदा सेंड की है। खैरासैंण के सूरज की तो इस बार खैर नहीं थी। वैसे तो पहले भी दोनों ने घात-जैंकार पूजी रखी है, पर इस बार तो...हरे राम-राम...। ऐसी-ऐसी घात कि बताने से भी लगता है। 

बोडी ने सीधे कह डाला गैरसैंण नहीं तो अगली बार खैरासैंण भी नहीं। ब्वाडा की चिट्ठी का मजमून भी कुछ ऐसा ही है कि बेटा रुकजा अगली बार तो लट्ठ से लठियाएंगे। अगर वोट मांगने आए तो। ब्वाडा को फोन लगाया वापस तो मुझे ही पूज दिया ढंग से। मेरी गलती बस इतनी थी कि...उस बिचारे की क्या गलती है। अक्ल ही उतनी है, तो वो भी क्या करेंगे। फिर कुछ नरम हुए...। वरना मेरा पहाड़ से हमेशा के लिए पलायन समझो। 

जमीन वाले मसले पर ब्वाडा ने चिट्ठी नहीं लिखी...उस चिट्ठी को ग्रंथ भी घोषित किया जा सकता है। उनका गुस्सा इस बात पर भी था कि टीवी में बयान आ रहा था बल कि स्थानीय लोगों ने कहा बल की हमको जमीन बेचनी और खरीदनी है। माफिया राज की जय हो...और फुल स्टाॅप लगा दिया। फिर थोड़ा डाॅट-डाॅट...करके आखिर में गजब लिख दिया। झूठ बोलना भी सीख गया बल ये लाटा अब। धन हो राजनीति। पहले तो ऐसा नहीं था बल। लोकु नि बोली तु बल कि यू ठीक मनखी, पर यु त...? और बहुत सारी बातें हैं...जो बोली हैं। उनका कल-परसों में फुरसत लगी तो फिर से लिख भेजूंगा...आपके मोबाइल में...।
...प्रदीप रावत (रवांल्टा) 
लोकु नि बोली तु बल कि यू ठीक मनखी, पर यु त...? लोकु नि बोली तु बल कि यू ठीक मनखी, पर यु त...? Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Saturday, July 13, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.