क, ख, ग भी नहीं जानते एक चैथाई दिव्यांग बच्चे, सही व्यवहार नहीं करते शिक्षक

देहरदून: स्टेट ऑफ द एजुकेशन रिपोर्ट फॉर इंडिया (चिल्ड्रेन विद डिसेबिलिटी) 2019 की रिपोर्ट में कई खुलासे हुए हैं। उसमें एक बड़ा खुलासा ये है कि देश में पांच से 19 साल तक की उम्र के बीच के एक चैथाई दिव्यांग बच्चे क, ख, ग तक भी नहीं पहचानते हैं। छोटी कक्षाओं में लड़कियों के दाखिले कम हो रहे हैं। रिपोर्ट में यह भी खुलासा किया गया है कि मोदी सरकार में भले ही सुविधाओं में सुधार हुआ हो, लेकिन दिव्यांग बच्चों के साथ शिक्षकों का व्यवहार ठीक नहीं है। देेश में लड़कों के मुकाबले लड़कियों की शिक्षा से जुड़ने का आंकड़ा सबसे कम है। यह खुलासा ताजा रिपोर्ट में किया गया है। टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज ने 2017-2018 के बीच देश के सभी राज्यों में दिव्यांगों को लेकर शोध किए हैं। यूनेस्को और टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज ने दिल्ली में रिपोर्ट जारी की है। उत्तराखंड में नौवीं 574, दसवीं में 472, ग्यारहवीं में 311 और बारहवीं में 330 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। 

रिपोर्ट में दिए गए सुझाव
  • ऐसे बच्चों को शिक्षा की विशिष्ट समस्याओं को शामिल करते हुए आरपीडब्ल्यूडी अधिनियम के साथ बेहतर मिलान करने के लिए आरटीई अधिनियम में संशोधन किया जाना चाहिए। राज्यों के लिए जोर देकर कहा गया है कि राज्य अनिवार्य रूप से संशाधन करें। 

  • दूसरा ये कि बच्चों तक शिक्षा कार्यक्रम पहुंचाने के लिए एक ऐसा तंत्र स्थातपित करना होगा, जो सही ढंग से शिक्षा कार्यक्रमों को ऐसे बच्चों तक पहुंचा सकें। राज्य के सभी विभाग संयुक्त रूप से मिलकर उन्हें शिक्षा से जोड़ने और योजनाओं को लागू करने पर काम करें।  

  • शिक्षा बजट में अलग से फंड का प्रावधान अनिवार्य करना चाहिए। इनोवेशन, तकनीक से विशेष बच्चों को पढ़ाई से जोड़ा जाना चाहिए। दिव्यांग बच्चों की शिक्षा के लिए सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग का व्यापक विस्तार करने पर भी जोर दिया गया है। 

  • साथ ही ऐसे बच्चों के लाभ के लिए सरकार, नागरिक समाज, निजी क्षेत्र और स्थानीय समुदायों को शामिल करने वाली प्रभावी भागीदारी को प्रोत्साहित करना चाहिए।

क, ख, ग भी नहीं जानते एक चैथाई दिव्यांग बच्चे, सही व्यवहार नहीं करते शिक्षक क, ख, ग भी नहीं जानते एक चैथाई दिव्यांग बच्चे, सही व्यवहार नहीं करते शिक्षक Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Thursday, July 04, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.