टनल दिलाएगी जाम के झाम से मुक्ति, 50-55 किमी कम होगी देहरादून से यमुनोत्री की दूरी, बन सकती है टनल

देहरादून: मोदी सरकार ने आल वैदर रोड को अपना ड्रीम प्रोजेक्ट बताया है। उसे पूरा करने के लिए सरकार ने पूरा जोर लगाया हुआ है। केंद्र सरकार का मकसद चारधाम यात्रा को सुगम बनाना है। आल वैदर परियोजना के तहत यमुनोत्री से गंगोत्री जाने वाले यात्रियों के लिए बड़कोट के दुबाटा से कुछ आगे डंडालगांव-पौलगांव के बीच टनल बनाई जा रही है। लेकिन, अब देहरादून से यमुना पुल तक टनल बनाने की मांग भी जोर पकड़ने लगी है। अगर ये टनल बनी तो यमुनोत्री की दूरी देहरादून से करीब 55 किलोमीटर कम हो जाएगी। इतना ही नहीं इस टनल से जमुना पुल से लेकर खरसाली गांव तक के हजारों लोगों को लाभ मिलेगा।


केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री के रूप में नितिन गड़करी का पहला 5 साल कार्याकाल मोदी सरकार में बेहतर रहा है। देशभर में पिछले 5 साल में कई राष्ट्रीय राजमार्गों की तस्वीर नितिन गडकरी ने बदल कर रख दी। ? उत्तराखंड में निर्माधीन आॅल वेदर रोड़ के कार्य के लिए भी हर कोई नितिन गड़करी की तारीफ करता नजर आया। वहीं, नितिन गड़करी से उत्तराखंड की जनता के साथ चारधाम यात्रा पर आने वाले यात्रियों को एक बड़ी आस है और वह आस देहरादून से यमुना पल तक टनल बनाए जाने की है। जिसको लेकर नितिन गडकरी को उत्तरकाशी के सामाजिक कार्यकर्ता चंद्र सिंह रावत ने पत्र भेजा है। पत्र में चंद्र सिंह रावत ने सड़क परिवहन मंत्री का ध्यान टनल बनने के बाद आम जनता को मिलने वाली राहत की ओर खींचा है। इससे पहले इंजीनियर रमेश राव ने टनल बनाने की मांग की थी।

देहरादून से यमुना पुल तक अगर टनल बनी तो चारधामों में से दो धाम गंगोत्री और यमनोत्री धाम की यात्रा करीब 55 किलोमीटर कम हो जाएगी। अगर ये टनल बनी तो यात्रियों को मसूरी, कैम्पटीफाल का चक्कर नहीं कटना पड़ेगा। अभी देहराूदन से मसूरी 35 किलोमीटर और फिर मसूरी से 25 किलोमीटर हो के यमुना पुल पड़ता है, जो टनल बनने से मात्र 5 से 6 किलोमीटर की दूर रह जाएगा। अगर वास्तव में ये टनल बन गई तो यात्रियों के साथ उत्तराखंड वासिायों को भी काफी फायदा होगा।

टनल बनने का पहला फायदा तो यही है कि 55 किलोमीटर की दूरी देहरादून से यमुना पुल की कम हो जाएगी। साथ ही मसूरी में यात्रा सीजन के समय जो जाम लगता है। उस के झाम से तो मुक्ति मिलेगी ही, लोगों का काफी समय भी बच जाएगा। साथ ही किराय भी कम हो जाएगा। एक खास बात ये भी है कि आल वेदर रोड़ पर करीब 3 किलोमीटर की टनल बड़कोट के दोबाटा से कुछ आगे से सिलक्यारा तक बन रही है, जिसके स्वरूप को देखते हुए देहरादून से यमुना पुल तक टनल का निर्माण हो सकता है। इसलिए चारधाम पर आने वाले यात्रियों के साथ उत्तराखंड वासियों की पूरी उम्मीदें हैं। रिवहन मंत्री नितिन गड़करी पर टिकी हुई हैं। लोगों को उम्मीद है कि अपने 5 साल के इस कार्यकाल में नितिन गडकरी ये सौगात दे देंगे।
टनल दिलाएगी जाम के झाम से मुक्ति, 50-55 किमी कम होगी देहरादून से यमुनोत्री की दूरी, बन सकती है टनल टनल दिलाएगी  जाम के झाम से मुक्ति, 50-55 किमी कम होगी देहरादून से यमुनोत्री की दूरी, बन सकती है टनल Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Monday, June 03, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.