उधमसिंह नगर जिले में आयुष्मान योजना पर भ्रष्टाचार लगा रहा पलीता

देहरादून: उत्तराखंड अटल आयुष्मान योजना में लगातार फर्जीवाड़े और घोटाले सामने आ चुके हैं। अब तक कई मामले सामने आ चुके हैं। लेकिन, एक चैंकाने वाली बात ये है कि ऊधमसिंह नगर जिले के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। उसके बाद हरिद्वार और देहरादून का नंबर आता है। ऊधमसिंह नगर जिले के दो और मामले सामने आए हैं। 


काशीपुर के देवकीनंदन अस्पताल का एक और मामला सामने आया है। अस्पताल ने आनलाइन पंजीकरण में जो दस्तावेज दिए थे। उनमें जांच के साथ कई तथ्य और जानकारियां गलत पाई गई। अस्पताल ने अपने यहां डाॅ.विकास गहलोत को आर्थो विशेषज्ञ दिखाया है, जबकि वो पहले से ही सरकार अस्पताल में तैनात है। नियमानुसार ऐसा नहीं कर सकते। इतना ही नहीं अस्पताल में अब तक 143 केसों का क्लेम किया गया, जिनमें से 82 केस प्लांटेड यानि फर्जी हैं। सरकार अस्पताल के संविदा डाॅक्टर विकास ने ही अकेले 53 केस अस्पताल के लिए रेफर किए हैं। 

काशीपुर के ही जनसेवा केंद्र का एक और मामला सामने आया है। अस्पताल को मालिक डाॅ.विशाल हुसैन एक मात्र डाॅक्टर हैं। जबकि आॅनलाइन पंजीकरण में अस्ताल को 24 घंटे की सेवाओं वाला बताया गया है। किसी एक डाॅक्टर के लिए ऐसा कर पाना संभव नहीं है। इससे बड़ा फर्जीवाड़ा यह है कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कोई भी डाॅक्टर तैनात नहीं हैं। बावजूद इसके वहां तैनात फार्मासिस्ट ने मेडिकल आफिसर की मुहर लगाकर 47 मरीजों को रेफर कर दिया गया। 

ऊधमसिंह नगर में इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं। लगातार सामने आ रहे मामलों से अस्पतालों के झूठ की कलई खुल रही है। प्रशासनिक अधिकारी डाॅ. अभिषेक त्रिपाठी ने बताया कि जितने भी मामले सामने आए हैं, सबके अनुबंध तो निरस्त किए ही जा रहे हैं। अन्य कानूनी कार्रवाई भी अमल में लाई जाएगी। उन्होंने बताया कि मामलों की जांच लगातार की जा रही है। 
उधमसिंह नगर जिले में आयुष्मान योजना पर भ्रष्टाचार लगा रहा पलीता  उधमसिंह नगर जिले में आयुष्मान योजना पर भ्रष्टाचार लगा रहा पलीता Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Monday, June 10, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.