पिता का अंतिम संस्कार कर वोट डालने पहुंचा बेटा, 105 साल की बूढ़ी मां को गोद में उठा लाया बेटा

देहरादून: लोकसभा के पांचवें चरण का मतदान जारी है। मतदान को लेकर लोगों में खासा उत्साह देखा जा रहा है। भीषण गर्मी में भी मतदान केंद्र के बाहर लंबी-लंबी कतारें नजर आ रही हैं। लोग घरों से निकल कर अपने मताधिकार का प्रयोग करने पहुंच रहे हैं। लोकतंत्र की मजबूती के लिए सात राज्यों के 51 लोकसभा सीटों पर देश का हर नागरिक मतदान केंद्र की तरफ बढ़ रहा है। नौजवानों से लेकर बुजुर्ग और महिलाएं कोई भी मतदान को लेकर पीछे नहीं है।

वोटिंग को लेकर कई रोचक बातें भी सामने आ रही हैं। जहां बिहार में एक बेटे की मां ने उसके पसंद के उम्मीदवार को वोट नहीं दिया, तो बेटे ने ईवीएम ही तोड़ डाली। वहीं, दूसरी ओर ऐसा नजारा भी देखने को मिला, जहां एक बेटा अपनी मां को वोट डलवाने के लिए गोद में उठा लाया। झारखंड के हजारबाग में बेटा अपनी 105 साल की बूढ़े मांग को गोदी में उठाकर लाया। दूसरी और कई बीमार, दिव्यांग और बुजुर्ग लोग ऐसे भी नजर आए, जो विकट परिस्थियों में वोट देने पहुंचे। कोई लाठी-डंडों के सहारे पहुंचा, तो ट्राइसाकिल से वोट देने बूथ तक आया। मध्य प्रदेश के छतरपुर के रहने वाले एक मतदाता ने अपने पिता के अंतिम संस्कार के बाद क्षेत्र के मतदान केंद्र पर आकर मतदान किया।
पांववें चरण में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बीजेपी के सीनियर लीडर राजनाथ सिंह समेत कई बड़े चेहरे चुनावी मैदान में हैं। उन सबका भाग्य आज जनता ईवीएम में कैद देगी। परिणा क्या होंगे, ये तो 23 मई को ही पता चलेगा, लेकिन जिस तरह से जनता वोट देने घरों से निकल पोलिंग बूथ पर पहुंच रही है। उससे जनता के उत्साह का अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है।
पिता का अंतिम संस्कार कर वोट डालने पहुंचा बेटा, 105 साल की बूढ़ी मां को गोद में उठा लाया बेटा पिता का अंतिम संस्कार कर वोट डालने पहुंचा बेटा, 105 साल की बूढ़ी मां को गोद में उठा लाया बेटा Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Monday, May 06, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.