पूरे देश में एक जैसा बनेगा ड्राइविंग लाइसेंस, क्यूआर कोड से होगा स्कैन

नई दिल्ली: एक अक्टूबर से ड्राइविंग लाइसेंस के नियमब बदल जाएंगे। इसके नियमों को और आसान बनाने के लिए पिछले साल ही एक नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया था। नये नियम एक अक्टूबर 2019 से लागू होंगे। आपका ड्राइविंग लाइसेंस पूरी तरह बदल जाएगा। इन नये नियमों को जानना हर किसी के लिए जरूरी है।
केंद्र सरकार ने ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के नियमों में बदलाव किया है। एक अक्टूबर से पूरे देश का ड्राइविंग लाइसेंस और वाहनों का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट जैसा होगा। यानी ड्राइविंग लाइसेंस और वाहनों के रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट में छपी जानकारी से लेकर इनके रंग तक, सब समान होंगे।
नए ड्राइविंग लाइसेंस की खास बात ये है कि इसमें माइक्रोचिप और क्यूआर कोड होंगे। इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि आप जितनी बार ट्रैफिक नियमों को उल्लंघन करेंगे। सारा रिकार्ड आपके लाइसेंस में कैद होता चला जाएगा। क्यूआर कोड के जरिए केंद्रीय ऑनलाइन डाटाबेस से ड्राइवर या वाहन के पिछले रिकॉर्ड को एक डिवाइस के जरिए पढ़ा जा सकेगा। क्यूआर कोड को स्कैन करते ही गाड़ी और ड्राइवर की सारी डिटेल मिल जाएंगी।

केंद्र सरकार ने पिछले साल ही 30 अक्टूबर 2018 को नोटिफिकेशन जारी कर दिया था। नोटिफिकेशन के मुताबिक सभी राज्यों को एक अक्टूबर से ड्राइविंग लाइसेंस और वाहनों की रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट पीवीसी आधारित बनाने होंगे होंगे। अब तक हर राज्य अपनी सुविधा के अनुसार ही डीएल और आरसी तैयार करता रहा है, लेकिन एक अक्टूबर से ऐसा नहीं होगा। सभी राज्यों के ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी एक जैसे ही बनेंगे।
पूरे देश में एक जैसा बनेगा ड्राइविंग लाइसेंस, क्यूआर कोड से होगा स्कैन पूरे देश में एक जैसा बनेगा ड्राइविंग लाइसेंस, क्यूआर कोड से होगा स्कैन Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Tuesday, May 07, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.