मोदी जी के गुजरात में किसानों ने उगाया आलू, कंपनी ने कराया मुकदमा

गुजरात : आपने किसी फैक्ट्री या कंपनी में बने सामान के ब्रांड के नाम तो सुने होंगे. ब्रांडों के ट्रेडमार्क और कॉपीराइट भी सुने ही होंगे. लेकिन, आपको यह जानकर हैरत होगी कि गुजरात में चिप्स बनाने वाली चिप्सको कंपनी ने किसानों पर सिर्फ इसलिए मुकदमा ठोक दिया,  क्योंकि किसानों ने आलू का उत्पादन किया था। आलू से लेज बनाने वाली कंपनी का दावा है कि  जिस आलू को किसान उगा रहे हैं। वह कंपनी का ट्रेडमार्क है. सवाल इस बात पर है कि धरती से होने वाली कोई चीज ट्रेडमार्क कैसे हो सकती है. लोग यह भी सवाल उठा रहे हैं की धरती से पैदा होने वाले आलू के ट्रेडमार्क होने का कमाल भी पीएम मोदी के गुजरात मॉडल में ही हो सकता है.


DW.com के अनुसार पेप्सिको ने कुछ किसानों पर कंपनी के ट्रेडमार्क वाले आलू उगाने का आरोप लगाया है. इसके खिलाफ कंपनी के मुकदमे का सामना करने के लिए किसान संगठन भी किसानों को कानूनी मदद मुहैया करवाएंगे. किसान संगठनों का कहना है कि वे उन किसानों को कानूनी मदद दिलवाएंगे, जिनके खिलाफ खानपान की चीजें बनाने वाली दुनिया की कुछ सबसे बड़ी कंपनियों में से एक पेप्सिको ने मुकदमा ठोका है. कंपनी ने किसानों पर आरोप लगाया है कि वे आलू की ऐसी किस्में उगा रहे थे जो पेप्सिको की ट्रेडमार्क किस्म है. पेप्सिको इन ट्रेडमार्क आलुओं से चिप्स बनाती है.

नौ किसानों के खिलाफ कंपनी ने मुकदमा दायर किया है. ये किसान गुजरात के हैं. भारतीय किसान संघ के उपाध्यक्ष अंबालाल पटेल ने बताया कि कंपनी ने अपने ट्रेडमार्क के अधिकारों का उल्लंघन करने के एवज में हर एक किसान से एक से दो करोड़ रूपये चुकाने को कहा है.

पेप्सिको का कहना है कि बिना कंपनी की इजाजत के इन किसानों को खास आलू उगाते हुए पकड़ा गया. इन आलुओं से कंपनी अपने लेज ब्रांड के चिप्स बनाती है. इनमें से चार किसानों के ऊपर लगे आरोपों की सुनवाई अहमदाबाद के कमर्शियल कोर्ट में हो चुकी है.

अहमदाबाद के किसानों के अधिकारों के लिए काम करने वाले एक्टिविस्ट कपिल शाह ने बताया, "पेप्सिको ने कोर्ट में कहा कि वे इस विवाद को सुलझाना चाहते हैं और इसके लिए एक प्रस्ताव भी दिया है, जिस पर किसान विचार करेंगे. शाह का कहना है कि किसानों को किसी ट्रेडमार्क समस्या का पता नहीं था और ना ही ये पता था कि भारतीय कानून में भी बीजों और पौधों को लेकर कुछ अधिकार बनते हैं.

किसान संगठन के अंबालाल पटेल और कई अन्य किसान समूहों की मांग है कि "पेप्सिको इन किसानों के खिलाफ दायर मामले वापस ले." पटेल ने बताया कि उन्होंने केंद्र सरकार से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की है. पेप्सिको की तरफ से केस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी है. आलू के मामले पर कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, "पेप्सिको कई सालों से हजारों स्थानीय किसानों के साथ आलू की खास किस्में उगाने पर काम कर रहे हैं."
मोदी जी के गुजरात में किसानों ने उगाया आलू, कंपनी ने कराया मुकदमा मोदी जी के गुजरात में किसानों ने उगाया आलू, कंपनी ने कराया मुकदमा Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Saturday, April 27, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.