बेटे के रंग में रंगे जनरल, भाजपा हुई बेरंग!

देहरादून : कहते हैं कि होली के रंगों में हर रंग ऐसे मिल जाते हैं कि हर रंग अपना रंग बदल लेता है। सियासत भी कुछ ऐसे ही रंग बदलती है। इन दिनों 17वीं लोकसभा चुनाव के भी कई रंग नजर आ रहे ह़ैं। इस चुनावी माहौल में नेता भी कई रंग बदलते नजर आ रहे हैं। जनरल बीसी खंडूड़ी की कांग्रेस में शामिल हुए अपने बेटे मनीष खंडूड़ी, विधायक बेटी और परिवार के साथ जमकर रंग उड़ाती तस्वीरें नजर आ रही हैं। कहीं उन्होंने रंग बदल लिया तो, भजपा के चुनावी रंग में भंग पड़ सकता है। अगर ऐसा हुआ तो जनरल का होली में उड़ाया रंग भाजपा की नींद उड़ा देगा। जनरल की मुस्कान देखकर तो लगता भी ऐसा ही है कि वो भाजपा  के चुनावी रंग को फीका रने की पूरी तैयारी में हैं।


उत्तराखंड की राजनीति में भूचाल लाने वाले जनरल बीसी खंडूड़ी के बेटे मनीष खंडूरी ने भाजपा के माथे पर बल ला दिए हैं । मनीष ने 16 मार्च को राहुल गांधी की सभा में कांग्रेस में शामिल होकर गढ़वाल लोकसभा की राजनीति में हलचल पैदा कर दी। खंडूरी परिवार उत्तराखंड की राजनीति में काफी बड़ा नाम और बड़ा दखल रखता है। लोकसभा सांसद जनरल खंडूरी राजनीति के परिदृश्य से काफी समय से गायब थे । राजनीतिक हलकों में उनके गायब होने के लिए जनरल खंडूड़ी के खराब स्वास्थ्य को कारण बताया जाता रहा था। लेकिन, लोकसभा चुनाव से पूर्व जनरल खंडूड़ी को रक्षा समिति के अध्यक्ष पद से हटाने को उनकी सक्रियता कम होने की असल वजह मानी जा रही है। 

इन सबके बीच बदलती राजनीति में कांग्रेस ने बाजी मारते हुए मनीष खंडूरी को अपने पाले में लाकर भाजपा उत्तराखंड के खेल में मजबूत दांव मारकर मैदान मार लिया। इधर होली का सियासी रंग भी अब राजनीति पर चढ़ने लगा है । मनीष खंडूरी के फेसबुक अकाउंट पर उनके परिवार के साथ डाली गई फोटो अब कुछ और कहानी भी बयां करने लगी है । अगर फेसबुक साइट पर विश्वास किया जाए तो मनीष खंडूरी ने होली की पिचकारी से पहला हमला कर दिया है। जिसमें भाजपा के कई नेता लाल, पीले, हरे होने लगे हैं। अपने फेसबुक अकाउंट पर मनीष खंडूरी ने अपने परिवार के साथ फोटो डालते हुए लिखा कि "मैने आज अपने पूरे परिवार के साथ होली खेली। माता पिता का आशीर्वाद लिया और बहन का स्नेह मिला। प्रभु से प्रार्थना है कि परिवार का प्रेम सदा ऐसा ही बना रहे"। इन तस्वीरों ने राजनीतिक लिहाज से कई सवाल खड़े कर दिए हैं। इन सवालों के जवाब अब राजनीतिक पंडितों ने भी ढूंडने ने शुरू कर दिये हैं।

अगर मनीष खंडूड़ी की प्रार्थना को भगवान ने सुन लिया और चुनाव में उनके पिता जनरल बीसी खंडूरी उनके पक्ष में आ गए, तो पांच बार के लोकसभा सांसद जनरल खंडूरी भाजपा की गणित को पूरी तरह फेल कर देंगे। भाजपा जिस तरह से जनरल बीसी खंडूड़ी के बयान को सोशल मीडिया में वायरल कर रही है। मनीष खंडूड़ी की पोस्ट को उसके जवाब के रूप में भी देखा जा रहा है। अब देखना होगा कि आने वाले दिनों में सियासत क्या गुल खिलाती है। होली के रंग उत्तराखंड की राजनीति में कौन से रंग लेकर आएंगे।
                                      ...बुरा ना मानो होली है।
बेटे के रंग में रंगे जनरल, भाजपा हुई बेरंग! बेटे के रंग में रंगे जनरल, भाजपा हुई बेरंग! Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Wednesday, March 20, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.