तो क्या खंडूड़ी और कोश्यारी कैंप पर भरोसा नहीं कर पा रही भाजपा...?

देहरादून: लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए नामांकन का आज आखिरी दिन है। भाजपा-कांग्रेस के प्रत्याशियों ने नामांकन करा दिया है। प्रदेश की हर सीट पर भाजपा-कांग्रेस के बीच ही कड़ा मुकाबला है। हर सीट पर दोनों राजनीतिक दलों ने अपने प्रत्याशियों का चुनाव प्रचार भी तेज कर दिया है। इन सबके बीच गढ़वाल और नैनीताल-ऊधमसिंह नगर दो ऐसी सीटें हैं, जहां भाजपा के लिए बड़ी चुनौतियां हैं। भाजपा भले ही यह दिखाने के प्रयास में जुटी हो कि वहां सबकुछ ठीक चल रहा है, लेकिन असल में भाजपा खंडूड़ी और कोश्यारी कैंप पर भरोसा नहीं कर पा रही है। 


पौड़ी गढ़वाल सीट पर भाजपा ने तीरथ सिंह रावत को प्रत्याशी बनाया है, तो कांग्रेस के प्रत्याशी जनरल बीसी खंडूड़ी के बेट मनीष खंडूड़ी हैं। खंडूड़ी के बयान को पहले भाजपा के नेताओं और विधायकों ने अपने फेसबुक आईडी और दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर खूब शेयर किया, लेकिन अब भाजपा नेताओं के फेसबुक पर अनिल बलूनी के समर्थन में पोस्टें नजर आ रही हैं। कुछ ऐसे नेता भी बलूनी के पक्ष में खड़े नजर आ रहे हैं, जो उनके धुर विरोधी हुआ करते थे। और तो और वनिल बलूनी को खंडूड़ी का विकल्प तक कहा जा रहा है
मनीष खंडूड़ी ने होली के मौके पर अपने पूरे परिवार के साथ जो फोटो शेयर की, उसने भाजपा की टेंशन बढ़ा दी है। 

खंडूड़ी कैंप पर भरोसा ना करने का एक वाकया हाल ही में कोटद्वार में की एब मीटिंग में भी नजर आया। दअरसल, भाजपा की बैठक में शामिल भाजपा युवा मोर्चा के एक पदाधिकारी के मोबाइल पर यमकेश्वर विधायक ऋतु खंडूड़ी का फोन आया। सूत्रों की मानें तो पदाधिकारी को विधायक से दूरी बनाकर रखने को कहा गया है। ऐसे ही दो-तीन और वाकए सामने आ चुके हैं। 

दूसरी ओर नैनीताल-ऊधमसिंह नगर सीट पर भगत सिंह कोश्यारी के चुनाव नहीं लड़ने की बातें फैलाकर उनका टिकट काटने का प्रयास किया गया। इससे गुस्साए भगत दा ने हाई कमान के काफी मनाने के बाद भी चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया। इसके बाद भाजपा ने उनकी जगह भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट का प्रत्याशी बनाया। कल ही अजय भट्ट के चुनाव कार्यालय के उद्घाटन में भगत दा पहुंचे जरूर थे, लेकिन उन्होंने खुद को मीडिया से और दूसरे नेताओं से दूर ही रखा। जानकारी के अनुसार भगत दा से जुड़े नेताओं और कार्यकर्ताओं को चुनाव प्रचार में बहुत ज्यादा तब्बजो नहीं दी जा रही है। यह बातें भी फैलाई जा रही हैं कि भगत दा ही हरीश रावत को नैनीताल सीट से चुनाव लड़ने के लिए लेकर आए। इसे भगत दा के खिलाफ साजिश माना जा रहा है।
तो क्या खंडूड़ी और कोश्यारी कैंप पर भरोसा नहीं कर पा रही भाजपा...? तो क्या खंडूड़ी और कोश्यारी कैंप पर भरोसा नहीं कर पा रही भाजपा...? Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Monday, March 25, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.