खबर का असर : पिंकी की मौत से सकते में सरकार, जांच के आदेश

देहरादून: अटल आयुष्मान योजना का गोल्डन कार्ड होने के बावजूद इलाज नहीं मिल पाने के कारण बेमौत मरी पिंकी प्रसाद की मौत के बाद सरकार सकते में है। सरकार ने पूरे मामले की जांच के आदेश कर दिए हैं। पिंकी की मौत पर मौन रहने वाला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग दोनों ही जांच में जुटे हैं कि आखिरी पिंकी को गोल्डन कार्ड का लाभ क्यों नहीं मिला। 
 Related image
स्वास्थ्य निदेशालय ने कोटद्वार सीएमएस को जांच के आदेश दिए हैं। साथ ही पौड़ी डीएम ने भी जांच कर रिपोर्ट मांगी है। दरअसल, सरकार अटल आयुष्मान योजना को लेकर बड़े-बड़े दावे कर रही थी। लेकिन, योजना लागू होने के बाद जब लोग उपचार के लिए लिस्टेड अस्पतालों में पहुंच रहे हैं, तो उनको इलाज नहीं मिल पा रहा है। पिंकी प्रसाद के साथ भी यही हुआ। 
 यह भी पढ़ें...https://www.pahadsamachar.com/2019/03/Finally-responsible-for-the-death-of-Pinky-ki-govt-or-hospital.html
कोटद्वार सीएमएस खुद ही कह रहे हैं कि पिंकी प्रसाद ऋषिकेश एम्स में भी गई थी। वहां से उनको फोर्टीस अस्पताल भेजा गया। वहां भी पिंकी का इलाज नहीं किया गया। हार्ट पेसेंट पिंकी इसके बाद महंत इंदे्रश अस्पताल गईं। वहां भी उनको निराशा ही हाथ लगी। अस्पताल ने दो लाख से अधिक का स्टिमेट थामा दिया। जिसके बाद निराश होकर पिंकी वापस कोटद्वार लौट गई और तहसील परिसर में धरना शुरू कर दिया। 
 
धरना-प्रदर्शन के बाद वन मंत्री हरक सिंह रावत ने उनको एक चिट्ठी थमाकर जौली ग्रांट अस्पताल भेज दिया। जब तक पिंकी का इलाज होता। बेरहम और असंवेदनशील सिस्टम के चक्कर काटते-काटते काफी देर हो चुकी थी। सिस्टम और बीमारी ने पिंकी को बेमौत मार दिया। उम्मीद है सरकार जांच में अस्पतालों की लापरवाही पर कार्रवाई करेगी। देखना यह होगा कि पिंकी की मौत के बाद सरकार और सिस्टम कितनी गंभीरता दिखाता है।  

खबर का असर : पिंकी की मौत से सकते में सरकार, जांच के आदेश खबर का असर : पिंकी की मौत से सकते में सरकार, जांच के आदेश Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Tuesday, March 26, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.