"कंगारू" बढ़ाएगा उत्तराखंड के बच्चों का वजन, उत्तराखंड में योजना शुरू

देहरादून: उत्तराखंड में कंगारू बच्चों का वजन बढ़ाने का काम करेगा। आपको ये खबर चैंकाने वाली जरूर लगेगी कि आखिरी कंगारू कैसे और कहां से वजन बढ़ाएंगे। दअरसल, अल्मोड़ा में नवजात शिशु का वनज बढ़ाने की योजना शुरू की गई है, जिसे कंगारू केयर यूनिट नाम दिया गया है। इसके लिए अस्पताल में बाकायदा केएमसीयू यानि कंगारू मदर केयर यूनिट खोली गई है। 


अल्मोड़ा जिले के धौलादेवी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कुमाऊं की पहली कंगारू मदर केयर यूनिट (केएमसीयू) चालू हो गई है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत खोली गई इस यूनिट से कम वजन वाले बच्चों का वनज बढ़ाने काम किया जाएगा। इसके लिए यूनिट में विशेषज्ञों की तैनाती की गई है। दो किलो से कम वजन वाले नवजात बच्चों की बढ़ती संख्या को देखते हुए राष्ट्रीय हेल्थ मिशन ने 2017-18 में सीएचसी धौलादेवी में केएमसीयू खोलने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा था। प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद कार्यदायी संस्था ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में आठ बेड का केएमसीयू तैयार किया। 

ये है कंगारू केयर यूनिट
कंगारू केयर यूनिट में दो किलो से कम वजन का शिशु पैदा होने पर उसे तुरंत कंगारू की तर्ज पर एक से लेकर दो-तीन दिन तक मां की छाती से चिपकाकर रखा जाता है। शिशु को लगातार मां का स्किन टच मिलता है और उसे सिर्फ स्तनपान कराया जाता है। विशेष तरह के बेड पर लेटी मां की छाती से चिपके बच्चे को इस दौरान मां की धड़कनों का भी अहसास होता है। केएमसीयू के भीतर तापमान 25 डिग्री से 28 डिग्री तक रखा जाता है। यूनिट संचालन का विशेष प्रशिक्षण प्राप्त वरिष्ठ चिकित्साधिकारी डॉ. बीबी जोशी के मुताबिक कंगारू केयर यूनिट में शिशु का इन्क्यूवेटर से भी अधिक तेजी से वजन बढ़ता है। 

"कंगारू" बढ़ाएगा उत्तराखंड के बच्चों का वजन, उत्तराखंड में योजना शुरू "कंगारू" बढ़ाएगा उत्तराखंड के बच्चों का वजन, उत्तराखंड में योजना शुरू  Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Sunday, March 03, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.