महासत्संग में खुशहाल जीवन के रहस्य बताएंगे श्री श्री रविशंकर


हल्द्वानी: द आर्ट ऑफ लिविंग संस्थापक श्री श्री रविशंकर आठ मार्च को हल्द्वानी में महासत्संग में आ रहे हैं। उनके स्वागत की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। द आर्ट ऑफ लिविंग उत्तराखंड अपेक्स बॉडी के मेंबर धीरेंद्र कबड़वाल ने बताया कि द आर्ट ऑफ लिविंग (जीवन जीने की कला) व्यक्ति, समाज, राष्ट्र और विश्व के सर्वांगीण विकास में प्रतिबद्धतापूर्वक लगा हुआ एक गौरलाभकारी, शैक्षिक और मानवतावादी संगठन है। आर्ट आफ लिविंग योग सत्संग सेवा के माध्यम से शरीर, मन को स्वस्थ बनाने, मानवीय गुणों को उभारने और आनंद से जीवन जीने की कला सिखाता है।


उन्होंने बताया कि संस्था के कार्य विश्व के 156 देशों में विस्तार लिए हुए हैं जिसके कार्यक्रमों से हर धर्म, जाति, संस्कृति आदि के 37 करोड़ से अधिक लोग लाभान्वित हुए हैं। द आर्ट ऑफ लिविंग को लगभग 10 से ज्यादा देशों में सर्वोच्च राष्ट्रीय सम्मान से सम्मानित किया गया है। जिनमें कोलंबिया, हंगरी, मंगोलिया समेत अन्य देश शामिल हैं। साथ ही दावा किया कि आर्ट आफ लिविंग गुरु जी के द्वारा 40 नदियों को भी पुनर्जीवित किया गया है  गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी द आर्ट ऑफ लिविंग के सांस्कृतिक कार्यक्रमों को स्थान मिला है।

संस्था हल्द्वानी में प्रतिमाह हैप्पीनेस कार्यक्रम आयोजित करती है। साथ ही स्वास्थ्य, स्वच्छता, शिक्षा, ग्रामीण विकास, पर्यावरण संरक्षण, कला-संस्कृति से जुड़े कार्यक्रम भी संस्था आयोजित करती रहती है। पत्रकार वार्ता में दीपक गुप्ता, आर.एस.कालाकोटी, उद्योग भारती, भूषण तिवारी, रवि जोशी, दीपक सुया और हिमांशु उपाध्याय मौजूद रहे।
महासत्संग में खुशहाल जीवन के रहस्य बताएंगे श्री श्री रविशंकर महासत्संग में खुशहाल जीवन के रहस्य बताएंगे श्री श्री रविशंकर Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Saturday, February 23, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.