टूट गया था 115 साल पुराना पुल, सेना ने पांच दिन में बना दिया वैली ब्रिज

देहरादून: गढ़ी कैंट में 28 दिसंबर 2018 को 115 साल पुराना पुल ढह गया था। उस की जगह नया पुल भले ही नहीं बना हो, लेकिन सेना के जवानों ने उसकी जगह बीरपुर में नया वैली ब्रिज बना दिया है। खास बात ये है कि सेना को पुल बनाने की अनुमति 30 जनवरी को मिली थी। जिसके बाद सेना ने काम शुरू किया और केवल पांच दिन में वैली ब्रिज बनाकर तैयार कर दिया। वैली ब्रिज बनने से करीब 20 गांवों के लोगों को बड़ी राहत मिली है। लोगों का संपर्क पुल गिरने के बाद देहरादून से कट गया था। लोगों को काफी दूरी से होकर आना पड़ रहा था। 


पुल टूटने के बाद बाणगंगा-सप्लाई से होकर ट्रैफिक डायवर्ट किया गया, लेकिन एक जनवरी को इस मार्ग पर भी घट्टीखोला में बने पुल पर दरारें आने से आवाजाही बंद कर दी गई। ऐसे में लोगों को दूसरे लंबे रास्तों से जाना पड़ रहा था। पुलों के क्षतिग्रस्त होने से सेना के भारी वाहन अपनी बटालियनों तक नहीं पहुंच पा रहे थे। ऐसे में सेना ने रक्षा मंत्रालय से वैली ब्रिज निर्माण की अनुमति मांगी। 

30 जनवरी को रक्षा मंत्रालय से हरी झंडी मिलते ही सेना ने घट्टीखोला में वैली ब्रिज का निर्माण शुरू किया और पांच दिन के रिकार्ड समय में पुल बनाया।सेना के बनाए वैली ब्रिज से भारी वाहन भी गुजर पाएंगे। यहां तक कि सेना के टैंक और बड़े ट्रक भी आसानी से इस वैली ब्रिज से गुजरेंगे। सेना की ओर से इसकी मजबूती का ट्रायल भी लिया जा रहा है।
टूट गया था 115 साल पुराना पुल, सेना ने पांच दिन में बना दिया वैली ब्रिज टूट गया था 115 साल पुराना पुल, सेना ने पांच दिन में बना दिया वैली ब्रिज Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Wednesday, February 06, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.