लोकसभा क्यों जाना चाहते हैं भाजपा विधायक और मंत्री...?

देहरादून: लोकसभा चुनाव का समय जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है। वैसे-वैसे लोकसभा चुनाव लड़ने के दावेदारों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है। कांग्रेस में लोकसभा चुनाव को लेकर ना तो जल्दबाजी नजर आ रही है और ना नेताओं में कोई कुलबुलाहट है। दूसरी ओर भाजपा में दावेदारों की फेहरिस्त लगातार लंबी होती जा रही है। लेकिन, बड़ा सवाल ये है कि आखिर भाजपा के विधायकों का प्रदेश की अपनी ही सरकार से मोहभंग क्यों हो रहा है। नैनीताल जिले में दो विधायक लोकसभा चुनाव लड़ने की दावेदारी कर चुके हैं। वहीं, गढ़ावल मंडल से एक विधायक ने दावेदारी पेश की है। 

भाजपा सरकार बनने के बाद से ही सरकार और विधायकों के बीच दूरियां नजर आने लगी थी। दूरियों को नकारना भाजपा के लिए आसान नहीं है। उसका सबसे बड़ा उदाहरण विधानसभा सत्रों में भाजपा विधायकों के सरकार से सवाल हैं। विधानसभा के अब तक के सभी सत्रों में भाजपा विधायकों ने अपनी सरकार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी। भाजपा विधायकों ने कांग्रेस के सदन से वाॅकआउट करने के बावजूद सरकार को कई बार असहज किया। 

अब जैसे ही लोकसभा चुनाव नजदीक आने लगे हैं। प्रदेश की पांच लोकसभा सीटों में से दो सीटों पौड़ी और नैनीताल में घमासान शुरू हो गया है। पौड़ी सीट से जहां पूर्व सीएम जनरल खंडूड़ी की बेटी ने दावेदारी पेशी की है। ऋतु खंडूड़ी वर्तमान में यमकेश्वर से विधायक हैं। वहीं, अगर नैनीताल सीट की बात करें तो यहां घमासान अब तेज हो गया है। बंशीधर भगत के बाद अब सरकार में परिवहन मंत्री यशपाल आर्य ने भी लोकसभा के लिए दावेदारी कर दी है। 

माना जा रहा है कि पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज पत्नी अमृता रावत के बहाने खुद की दावेदारी पेश कर रहे हैं। महाराज पहले भी पौड़ी सीट से लोकसभा जा चुके हैं। कुछ और मंत्री और विधायकों के दावेदारी करने की बातें भी सियासी गलियारों में तैर रही हैं। इससे भाजपा को इस सवाल का जवाब भी तलाशना होगा कि आखिर मंत्री और विधायक ही दावेदारी क्यों पेश कर रहे हैं। कहीं सरकार में कुछ गड़बड़ तो नहीं।

लोकसभा क्यों जाना चाहते हैं भाजपा विधायक और मंत्री...? लोकसभा क्यों जाना चाहते हैं भाजपा विधायक और मंत्री...? Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Thursday, January 03, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.