लंबी होती जा रही है "समोंण इंसानियत की" में शामिल होने वालों की फेहरिस्त


देहरादून : समौण इंसानियत की   रंगोली आंदोलन एक सामाजिक मुहिम के तहत 1 जनवरी से लगातार बेसहारा लोगों की मदद की जा रही है । हर रात शहर के भिन्न भिन्न क्षेत्रों में जाकर शशि भूषण मैठाणी और उनकी दो बेटियां मनस्विनी मैठाणी व यशस्विनी मैठाणी सड़क के किनारे , बस्तियों में अस्पताल में जाकर गरम कपड़े , कम्बल और रजाईयां बांट रहे हैं । 

उनकी इस मुहिम को अब शहर वासियों का सहयोग मिलने लगा है । बड़ी संख्या में लोग उन्हें कपड़े कम्बल व रजाइयां भेंट कर रहे हैं । 

इस मुहिम को और बड़ा करने के लिए अब उन्होंने मीडिया से भी सहयोग की अपेक्षा की है । और प्रकाशित समाचार के मार्फ़त लोगों से अपील कि वह अपने घरों में पहनने व ओढ़ने योग्य गरम कपड़े गरीब व जरूरतमंद लोगों को समौण (उपहार) में दें । 
शशि भूषण मैठाणी ने इसे समौण  इंसानियत की नाम दिया है । दरअसल गढ़वाली में समौण किसी उपहार को कहा जाता है । ऐसे में समाजसेवी मैठाणी ने कहा कि इस भयानक ठण्ड में ठिठुरते लोगों को गरम कपड़े भेंट करना किसी को जीवनदान देने से कम नहीं है ।


अभी तक मिली समौण
-डॉ. महेश कुड़ियाल - 15 नई कम्बल

-श्रीमती कुमकुम जैन डालनवाला - 3 रजाइयां
-दीपक काम्बोज व दीपा काम्बोज  व्यवसायी - 
एक दर्जन बच्चों के स्वेटर, तीन कम्बल, 6 पेंट बड़ों के लिए, 6 टोपी , व दो दर्जन मौजे ।

-प्रदीप रावत (रवांल्टा) पत्रकार - एक बोरी गरम कपड़े अपने मौहल्ले से एकत्रित करके लाए ।
-अरुण कुमार सरकारी कर्मचारी - एक दर्जन स्वेटर । 
इसी तरह से लगातार लोगों के फोन आ रहे हैं और वह घर पर बुलाकर कपड़े समौण (उपहार) में दे रहे हैं ।


शशि भूषण मैठाणी पारस- से अभियान में उनके नंबरों पर संपर्क सकते हैं।
संस्थापक
रंगोली आन्दोल एक सामाजिक एवं रचनात्मक मुहिम 
9756838527, 7060214681। 
अपील....पत्रकार बंधुवों के परिवार भी अगर इस मुहिम साथ आएंगे तो अच्छा लगेगा ।


लंबी होती जा रही है "समोंण इंसानियत की" में शामिल होने वालों की फेहरिस्त लंबी होती जा रही है "समोंण इंसानियत की" में शामिल होने वालों की फेहरिस्त Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Tuesday, January 15, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.