...आखिर भारत रत्न की जिद्द छोड़ बाबाओं से चिलम क्यों मांग रहे हैं बाबा रामदेव

हरिद्वार: बाबा रामदेव इन दिनों हरिद्वार से लेकर प्रयाग राज तक योग गुरु बाबा रामदेव इन दिनों प्रयागराज में हैं। संतो के लिए भारत रत्न की मांग करने के बाद बाबा रामदेव बाबालों से प्रयागराज कुंभ में चिलम मांगने पहुंच गए हैं। आखिर ऐसा क्या है कि भारत रत्न की मांग छोड़कर बाबा रामदेव चिलम मांगने में जुट गए हैं। 


बाबा रामदेव प्रयागराज कुंभ में साधुओं के बीच काफी वक्त बिता रहे हैं। बाबा रामदेव प्रयागराज कुंभ में भारत रत्न का मोह त्याग कर खास मिशन में जुटे हैं। मिशन भाजपा को हराना नहीं, बल्कि बाबाओं से चिलम दान मांगने का है। चिलम दान मांगकर बाबा क्या करेंगे...? ये सवाल भी लोगों को परेशान कर रहा है। 

दरअसल, योग गुरु बाबा रामदेव नशा मुक्ति मिशन पर निकले हुए हैं। इसके चलते ही वह प्रयागराज में सभी संतों से नशे से दूर रहने का अनुरोध कर रहे हैं। कुंभ पहुंचे रामदेव यहां चिलम और दूसरे नशे की चीजें दान में मांग रहे हैं। साधुओं से नशे की दूरी बनाने के लिए वह अखाड़ों में जाकर बात कर रहे हैं। साधु भी रामदेव को खाली हाथ नहीं जाने दे रहे हैं। वह रामदेव के अनुरोध को स्वीकार करते हुए अपनी चिलम और नशे की दूसरी चीजें दान में दे रहे हैं।
...आखिर भारत रत्न की जिद्द छोड़ बाबाओं से चिलम क्यों मांग रहे हैं बाबा रामदेव ...आखिर भारत रत्न की जिद्द छोड़ बाबाओं से चिलम क्यों मांग रहे हैं बाबा रामदेव Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Thursday, January 31, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.