सभी भारतीयों को बधाई, यूनेस्को ने भारतीय करेंसी को सर्वश्रेष्ठ घोषित किया...!

pahadsamachar.com :
...खबर की हेडिंग आप सभी हिन्दुस्तानियों को गौरवान्वित कर रही होगी। आपने पहले भी इस लाइन को सुना और पढ़ा होगा। पहले भी आपका सीना राष्ट्र को समर्पित इस लाइन ने गर्व महसूस कराया होगा। सभी भारतीयों को बधाई, यूनेस्को ने भारतीय करेंसी को सर्वश्रेष्ठ करेंसी घोषित किया है, जो सभी भारतियों के लिए गर्व की बात है। हम सब भारतियों के लिए ये गर्व की बात होनी भी चाहिए, लेकिन अगर इन बातों में जरा भी सत्यता हो। इस तरह के कई दूसरे मैसेज आपके वाट्सएप के जरिए आपकी फोन की स्क्रीन पर आपके सामने होते हैं। और आपके दिमाग के आदेशानुसार आपकी अंगुलियां उन संदेशों को तुरंत फारवर्ड करने लगती हैं। 

हमें और आपके साथ ही सभी हिन्दुस्तानियों को देश की तरक्की की खबरों से खुशी ही मिलती होगी, अगर उनमें सच्चाई हो। जिसे नहीं मिलती होगी, तय मानिय वो देशद्रोही ही होगा। राष्ट्रवाद के नाम पर फर्जी मैसेज भेजे जाते हैं। इन फर्जी मैसेजे से कई बार बड़ी विवाद हो जाते हैं। कई बार ये मैसेज जानलेवा हो जाते हैं। एक और बड़ी बात यह है कि इन मैसजों के जरिए राजनीतिक दल भी लोगों की भावनाओं को परखने का प्रयास करते हैं और फिर उसी तरह के एजेंड पर देशभर में काम किया जा ता है। इसके लिए डाटा चोरी को भी हथियार बनाया जाता है। 

बीबीसी ने एक शोध किया है, जिसमें कई चैंकाने वाली बातें सामने आई है। सबसे बड़ी बात यह है कि राष्ट्र निर्माण की भावना से राष्ट्रवादी संदेशों वाली फेक न्यूज को लोग सबसे ज्यादा शेयर कर रहे हैं। बीबीसी ने भारत ही नहीं कीनिया और नाइजीरिया में भी रिसर्च किया है। ये रिसर्च बीबीसी के वियोंड फेक न्यूज प्रोजेक्ट के तहत किया गया है, जो गलत सूचनाओं के खलिाफ एक अंतरराष्ट्रीय पहल है। इस शोध से पता चला कि भारत में लोग उस तरह के संदेशों को शेयर करने में झिझक महसूस करते हैं जो उनके मुताबिक हिंसा पैदा कर सकते हैं, लेकिन यही लोग राष्ट्रवादी संदेशों को शेयर करना अपना फर्ज समझते हैं। भारत की तरक्की, हिंदू शक्ति और हिंदुओं की खोई प्रतिष्ठा की दोबारा बहाली से जुड़े संदेश, तथ्यों की जांच किए बिना बड़ी संख्या में शेयर किए जा रहे हैं। ऐसे संदेशों को भेजने वालों को लगता है कि वो राष्ट्र निर्माण का काम कर रहे हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि लोग जितने भी सोशल मीडिया एप हैं। उनके जरिए फेक न्यूज फैलाने का काम करते हैं। लोग किसी मैसेज को फैलान से पहले उसमें भावनात्मक पहलू को शामिल कर देते हैं। सबसे अधिक प्रयोग देश के प्रतिकों को लेकर किया जाता है। रिसर्च में ट्विटर पर मौजूद कई नेटवर्कों का भी अध्ययन किया गया और इसका भी विश्लेषण किया गया है कि इनक्रिप्टड मैसेजिंग ऐप्स से लोग किस तरह संदेशों को फैला रहे हैं।

कीनिया और नाइजीरिया में भी फेक न्यूज फैलाने के पीछे लोगों की फर्जी की भावना सामने आई। लेकिन, इन दोनों देशों में राष्ट्र निर्माण की भावना की बजाय ब्रेकिंग न्यूज को साझा करने की भावना ज्यादा होती है, ताकि कहीं अगर वो खबर सच हुई तो वह उनके नेटवर्क के लोगों को प्रभावित कर सकती है। सूचनाओं को हर किसी तक पहुंचाने की भावना यहां भी है।
सभी भारतीयों को बधाई, यूनेस्को ने भारतीय करेंसी को सर्वश्रेष्ठ घोषित किया...! सभी भारतीयों को बधाई, यूनेस्को ने भारतीय करेंसी को सर्वश्रेष्ठ घोषित किया...! Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Monday, November 12, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.