खबरदार, होशियार! सिंहासन खाली करो कि जनता आती है...।

मोहित डिमरी...
निर्दलीयों की जीत से भाजपा का सिंहासन हिला और कांग्रेस का साहस। गैरसैंण को लेकर भाजपा-कांग्रेस से नाराज जनता का स्पष्ट संदेश। भ्रष्टाचार रूपी काले अंधियारे को चीर कर उगा नया सूर्य...। निकाय चुनाव में इस बार भले ही भाजपा और कांग्रेस मेयर की सीटें जीत लें, लेकिन पालिका-पंचायत अध्यक्ष, सभासदों और पार्षदों के मामले में उन्हें भारी हार का सामना करना पड़ा है। त्रिवेंद्र की डबल इंजन सरकार में भाजपा फेल हो गयी है और टुकड़ों में बंटी कांग्रेस और गहरे गर्त में गिर गयी है। निर्दलीय पार्षदों ने भाजपा और कांग्रेस के मुकाबले में तीन गुणा अधिक सीटों पर जीत हासिल की है जो बताती है कि जनता अब भाजपा और कांग्रेस पर विश्वास नहीं कर रही है। 

मेयर चुनाव में भी ये दोनों दल इसलिए जीत पा रहे हैं क्योंकि साधन संपन्न राष्ट्रीय दल है, वरना गामा, सामा और रौतेला- पौतेला सभी हार जाते। भाजपा की सांसें जरूर तेज हो गयी होंगी और कांग्रेस तो इन चुनाव के बाद कोमा में ही चली गई। साफ है कि निर्दलीयों की यह जीत भाजपा और कांग्रेस के खिलाफ जनाक्रोश है। दोनों दल गैरसैंण को लेकर जनता को ठगने का काम करते रहे हैं। निर्दलीयों की जीत का स्वागत है और उन्हें हम गैरसैंण राजधानी मुद्दे के समाधान और जीत के रूप में देख रहे हैं। 

निर्दलीयों की जीत उम्मीद जगाती है कि जनता जाग रही है और भाजपा और कांग्रेस के भ्रष्ट तंत्र और गंदी राजनीति के दलदल से बाहर निकल रही है। यह भोर की किरण है और हमें उम्मीद है कि यह किरण गैरसैंण व पहाड़ के विकास पर छाए घने काले बादलों को चीर देगी और तब पहाड़ की बर्फ चांदी सी चमकेगी और हरे पहाड़ों पर सूर्य की किरणें ऐसे सुशोभित होंगी जैसे किसी राजा के सिर पर सोने का मुकुट। सभी निर्दलीय प्रत्याशियों को उनकी शानदार जीत पर बधाई।
खबरदार, होशियार! सिंहासन खाली करो कि जनता आती है...। खबरदार, होशियार! सिंहासन खाली करो कि जनता आती है...। Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Tuesday, November 20, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.