पीड़ित महिला का फोन क्यों नहीं ढूंढ रही पुलिस : पहाड़ समाचार

देहरादून...
भाजपा ने यौन उत्पीड़न के मामले में फंसे महामंत्री संगठन को पार्टी से बाहर का रास्ता  दिया है। उन पर कार्रवाई दिल्ली में आला कमान ने की है। इस मामले में एक बड़ा सवाल यह भी है कि पार्टी ने उन लोगों को बाहर का रास्ता क्यों नहीं दिखाया, जिन लोगों ने इस मामले को दबाने के लिए पूरा जोर लगा दिया। महिला के आरोपों के अनुसार उसका मोबाइल भी किसी महिला पदाधिकारी ने छीन लिया था, तो क्या महिला पदाधिकारी पर कार्रवाई नहीं होनी चाहिए...?

महिला ने भले ही संजय कुमार के खिलाफ आधिकारिक रूप से पुलिस में कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई, लेकिन पीड़ित महिला की ओर से पूर्व में मोबाइल चोरी की सूचना पुलिस को दी गई थी। बावजूद, पुलिस ने मामले में कोई कार्रवाई नहीं की। महिला की मानें तो उसके फोन में आरोपी नेता के खिलाफ सारे सुबूत थे। मामले के तूल पकड़ने के बाद भी पुलिस फिलहाल हरकत में नहीं दिख रही है। पुलिस पीड़ित महिला के सामने आने का इंतजार कर रही है। 

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट भी मामले बचते नजर आए। उनका कहना था कि ना मामले में नेता का नाम सामने आया है और ना महिला खुलकर सामने आई है। कोई रिपोर्ट भी दर्ज नहीं कराई गई है। भाजपा प्रवक्ताओं ने पूरी तरह मौन धारण कर लिया। उनको कुछ भी नहीं कहने के लिए आला कमान से निर्देश दिए गए हैं। निजी चैनल के सीईओ को बचाने के लिए पूर्व में जारी किए गए भाजपा नेताओं के पत्रों के सामने आने और इस मामले तक भाजपा के लिए पिछले कुछ दिन मुश्किलें लेकर आए। अब देखना होगा कि इसका असर चुनाव पर कितना पड़ता है।

पीड़ित महिला का फोन क्यों नहीं ढूंढ रही पुलिस : पहाड़ समाचार पीड़ित महिला का फोन क्यों नहीं ढूंढ रही पुलिस : पहाड़ समाचार Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Sunday, November 04, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.