आतंकी से बना देशभक्त, आतंकियों को ढेर कर हुए शहीद, हासिल कर चुके सेना मैडल

जम्मू-कश्मीर: जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में रविवार को ऑपरेशन ऑलआउट में सुरक्षाबलों ने 6 आतंकी ढेर कर दिया था. इस ऑपरेशन में सेना का एक जवान लांसनायक नजीर अहमद वानी शहीद हो गए थे. शहीद हुए नजीर अहमद की कहानी सुनकर हर कोई  हैरान रह जाएगा. एक वक्त मिसा भी था जब वानी आतंकवादी थे. उन्होंने आत्मसमर्पण करके भारतीय सेना को जॉइन किया था. 2007 में वीरता के लिए उनको सेना वीरता की लिए सेना मेडल भी मजल चुका है.


यह कहानी एक आतंकवादी के जांबाज देशभक्त बनने और सेना में शामिल होकर आतंकियों के खिलाफ अभियान में अपना सर्वोच्च बलिदान देने की है. आतंकवाद को छोड़ भारतीय सेना में जॉइन हुए नजीर अहमद वानी एक बेहतरीन सिपाही थे और वीरता के लिए उनको मेडल भी मिल चुका है.

वह कुलगाम तहसील के चेकी अश्‍मूजी गांव के रहने वाले थे. सेना के प्रवक्‍ता ने बताया कि लांस नायक नजीर अहमद वानी के परिवार में उनकी पत्‍नी और दो बच्‍चे हैं. उन्‍होंने करियर की शुरुआत वर्ष 2004 में टेरिटोरियल आर्मी से की थी. उन्‍हें सोमवार को सुपुर्द-ए-खाक से पहले 21 तोपों की सलामी दी गई.

बता दें कि दक्षिण कश्‍मीर में स्थित कुलगाम जिला आतंकवादियों का गढ़ माना जाता है. कर्नल कालिया ने बताया कि खुफिया जानकारी के आधार पर सुरक्षाबलों ने आधी रात को क्षेत्र में घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया था. इस दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां चला दीं, जिससे अभियान मुठभेड़ में बदल गया. सुरक्षा बलों ने भी इसका मुंह तोड़ जवाब दिया.
आतंकी से बना देशभक्त, आतंकियों को ढेर कर हुए शहीद, हासिल कर चुके सेना मैडल आतंकी से बना देशभक्त, आतंकियों को ढेर कर हुए शहीद, हासिल कर चुके सेना मैडल Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Tuesday, November 27, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.