आइगि रो बगाया... बिसरी गाली तुम बोलल बम अर आलू बम

...प्रदीप रावत (रवांल्टा)
...बगाया (दीपावली) आइगी। जंण्या बगायुं क दीन आत नजीक, आम लौड्याण येंण खुश ह त कि माता खड़ी मार त फाई। तदि आम जाणत बि ना त कि बगाया खतुली मनाऊं, पर फटाकु अर भात दांणियं (खील-पताशे) मां जु मिठाइया का खेलुंटा आ त, त्युंली बाज ति बिड़बिड़ाट। छोरा दौड़ी पड़त। बाबा दारक बि ना दे त आण। उंद न त बाटाउंद तांईं। भट्याव मारी-मारी किनी आ त दारक...मेर बाबा नि यंणगि धाण लेइ, तंणगि धांण लेई...। फटाकु कि त छुई ना किछी...उडेइ पड़ त दुर नि फटाकु ली...। ओली अर गेरुंडा बणाण लि छोलकु लि पिरुड़ बूट हेरत सलिक। पैली धरत छोलक चिरी। एतरा कोई छोलकई ना ल्यादुं। 

बगाइयों छुंइ लग ज, त लौड्याण की टग आ एकदम। फटाक आ त बजार त आम छैइना जाणंत त्युक नऊं, त आफुई धरत फटाकु क नऊं। एक से एक नऊं धरत आम लौड्याण फटाकु क। एतरा तांइ र त्युंकी टग। कंटर बम त सुंणियु हलु तुमारु। अब त्यां बाता बि दियुनु बताई कि कालि पड़ी तेइकु नऊं कंटर बम। बड़ू फटाकु र तु जु, सबसे बडड़ु बम...। तेई कंटर घाटि धरत छोरा त ला त आग। कंटर कि न ति छाट्या बाजी। त पड़ी तेइकु नऊं कंटर बम। 

आलु त तुम अर आम खाऊं पर आलु बम ना देखिलु कोइनि। लौड्याण आम एक बम कु नऊं आलु बम दी तु धरी। कई सालु तांइ छोराऊं नि तेइकु नऊं आलु बम जाणी। असल मां छुंई येंणि कि बड़ फटाक आ तु किछी आलू क मेसी गोल...त्युं फोड़दु बेरा कनेल करत सबा बंद। भयंकर आति त्युंक फुटण की भड़ाम।  एक आलु कु बाला बि तु। तेइलि आम सुतली बम बोलत कालि कि सु सुतल्या किनी र त बणियुं। तेई बैरया सुतली र ति लाइं, भितर बारूद र तु भरियूं। 

बोतल बम...किछी फटाक येंण बि त उटपंदरी छोराऊं क काम...। बोतलाउंदु करत धरी किनी फटाक, त ला त आग। छाट्या न ती बाजी बोतला कि। जेइली छोरा एतरा राॅकेट बोलुं तेइली आम आकश वाण बोलत, तेइबि फोड़त बोतलाउंद। कतरईं ज बोतल टेढ़ी-मेढ़ी न त होइ त पक्की बात ति कि कोई ना कोई कु न्यार क बूट त जउंणु-जउंणु तु। 

लाल, फटाक, काबरा फटाक, लक्ष्मी बम, दुइ मुख्या बम एक से एक नऊं र त त्युंक धरीं, पर लगभग सबु गां फुंडु एक विषेश बम र तु। तेईकु नऊं फौजी बम र तु धरियुं। असल मां यु जु बम तु सु केवल फौजियुं का दारक मिलतु। जु फौजी घर आतु सु आपड़ सात जरूर ल्यातु फौजी बम। एक फांडु एक र तु बादियुं। तेइकि येणी बाजति भड़मताऊ कि कनेल बंद करन बाद भी झंणाई मर त। युं क अलावा ओठा बि त पर त्युक नऊं तुम करयाण याद करि...मुंई बताइ गाली...अब तुम जाण्याण।
आइगि रो बगाया... बिसरी गाली तुम बोलल बम अर आलू बम आइगि रो बगाया... बिसरी गाली तुम बोलल बम अर आलू बम Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Thursday, November 01, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.