प्रयागराज बनने में देवभूमि की भूमिका...योगी मियां बाजार को बना चुके माया बाजार : पहाड़ समाचार

प्रदीप रावत (रवांल्टा)
शास्त्रों में इलाहबाद को प्रयागराज ही कहा गया है। 1526 से पहले तक इसे प्रयागराज के नाम से ही जाना जाता था। ऐतिहासिक अभिलेखों के अनुसार 16वीं सदी से पहले तक इलाहाबाद को प्रयाग या प्रयागराज के नाम से ही जाना जाता था। 1526 में यह क्षेत्र मुगलों के अधीन हो गया था। तब मुगल शासक अकबर ने इस पौराणिक और ऐतिहासिक नगर का नाम बदलकर अल्लाहाबाद कर दिया। 

अंग्रेजी में आज भी इसे अल्लाहाबाद ही कहा जाता है। बोलचाल की भाषा में इसे इलाहाबाद कहा जाने लगा और यही नाम अब सरकारी अभिलेखों में दर्ज है। लेकिन, अब प्रयागराज अपने मूल स्वरूप में आएगा। मुगलों ने जिस पवित्र भूमि से उसकी पहचान छीन ली थी। वह नाम और पहचान उसे वापस मिल जाएगी। सीएम योगी ने कहा कि प्रयागराज की जो पहचान थी, जो उसका मूल स्वरूप था। वह उसे आपस लौटाया जा रहा है।

अब आपको बताते हैं कि किस तरह पैराणिक प्रयागराज को उसका मूल नाम फिर से दिया गया। योगी सरकार ने राज्यपाल को इलाहबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने का जो प्रस्तवा भेजा था। उसमें उन्होंने अपनी जन्मभूमि देवभूमि उत्तराखंड के प्रयागों का जिक्र किया था। सीएम योगी ने कहा कि जब हम प्रयाग की बात करते हैं तो, जहां दो नदियों का संगम होता है, वह अपने आप में एक प्रयाग हो जाता है। उन्होंने कहा कि आपको उत्तराखंड में विष्णु प्रयाग, देव प्रयाग, रुद्रप्रयाग, नंद प्रयाग, कर्ण प्रयाग देखने को मिलेंगे। इन प्रयागों को और पुराणों को आधार मानते हुए मुगलों के बदले नाम को बदलकर इलाहबाद अब फिर से प्रयागराज हो जाएगा। 

सीएम योगी आदित्य नाथ के लिए यह कोई पहला मौका नहीं है कि, जब उन्होंने किसी जगह का नाम बदलवाया हो। इससे पहले उन्होंने उर्दू बाजार का नाम बदलवाकर हिंदी बाजार करवा दिया था। अली नगर का नाम बदलकर आर्यनगर करने का काम भी कर चुके हैं। इतना ही नहीं उन्होंने मियां बाजार के नाम को भी बदलवा दिया था, जिसे अब माया बाजार के नाम से जाना जाता है। उनका तर्क यह है कि मुगलों ने इन जगहों और नगरों के नाम बदल दिए थे, तो इनके नाम फिर से बदलकर उनके मूल नाम से क्यों नहीं किया जा सकता।
प्रयागराज बनने में देवभूमि की भूमिका...योगी मियां बाजार को बना चुके माया बाजार : पहाड़ समाचार प्रयागराज बनने में देवभूमि की भूमिका...योगी मियां बाजार को बना चुके माया बाजार : पहाड़ समाचार Reviewed by पहाड़ समाचार www.pahadsamachar.com on Sunday, October 14, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.